Hartalika Teej - 2016



Hartalika Teej - 2016
 
Hartalika Teej vrat is one of the three Teej festivals celebrated in North India. The other two are Hariyali Teej and Kajari Teej. This vrat is observed for three days. Women and young girls maintain nirjala vrata on these three days, and keep awake all three nights.



It is celebrated on Shukla Paksha Trutiya in Bhadrapad Month. It is observed mainly in North Indian states like Bihar, Jharkhand, Uttar Pradesh, Rajasthan, and Madhya Pradesh.

In 2016 Hartalika Teej will be celebrated on Sunday, 4 September, 2016.

Tritiya Tithi Begins = 17:00 on 3/Sep/2016
Tritiya Tithi Ends = 18:54 on 4/Sep/2016


********************************************************************

Hartalika Teej Date for 2016: Sunday, 4 September, 2016.

Hartalika Teej Date for 2017: Thursday, 24 August, 2017.

Hartalika Teej Date for 2018: Wednesday, 12 September, 2018.

Hartalika Teej Date for 2019: Sunday, 1 September, 2019.

Hartalika Teej Date for 2020: Friday, 21 August, 2020.
******************************************************************************** Hartalika Teej Date for 2015:  Wednesday, 16 September, 2015.

*******************************************************************************

Hartalika Teej Vrat Vidhi

Hartalika Teej is observed on the tritiya of waxing phase of the moon of Bhadrapada Month or on Bhadra pada sukla Tritiya. 

* Hartalika teej is observed when there is Hasta Nakshatra (star) for the day. 

Hartalika teej vrat is observed by women. 

Both married and unmarried woman can observe the Hartalika teej vrat.

Women should observe a fast on the day of Hartalika teej. 

Goddess Parvathi along with Lord Shiva is worshipped on Hartalika teej.

Goddess Parvati and Lord Shiva are to be worshipped in the morning, after noon and in the evening. 

The idols of Lord Shiva and Goddess Parvati are to be prepared using clay and worshipped.

Women get up early in the morning and take a head bath. 

Bathing in the evening,before worshipping Lord Shiva and Goddess Parvati is also one of the ritual in Hartalika Teej.  

 During the Puja Goddess Parvati is offered with all the things that are given to a married women like Kajal, mehindi, Kum Kum, Turmeric, flowers etc along with a saree. 

Lord Shiva is offered a Dhoti and Uttariyam.

After the puja, the saree along with other things is given to a Brahmin married women only along with some dakshina. 

Dhoti and Uttariyam to a Brahmin along with some dakshina. 

Thirteen varities of sweets are prepared and given to the mother in law and blessings are seeked from her.

It is believed that by observing Hartalika Teej Vrat with full devotion, all the wishes of the devotee are granted by Lord Shiva.


After all the above are done Haritalika Teej vrat katha is read or listened

It is believed that Hartalika teej vrat katha was narrated to Goddess Parvathi by Lord Shiva. 

The  Hartalika teej vrat katha was narrated by Lord Shiva with the intention to hlep Goddess Parvati remeber her previous birth.

 Katha:

Lord Shiva tells Goddess Parvati that:
Goddess Parvati in her previous birth was daughter of Daksh Prajapati. 
When Goddess Parvati was young she performed great penance for Lord Shiva at that young age. Goddess parvati used to perform penance without eating for some days, in the rain during rainy season, in the middle of fire during summer etc. on the Himalayas and on the bank of river Ganga. But Lord Shiva was not moved and Goddess Parvathi continued her penance.




Daksha was worried about his daugher and was sad. Once sage Narad came to Daksha and propsed an alliance of Lord Vishnu for Dakshas daughter Parvati. Daksha was over whelemed and readily agreed and asked Narad to inform Vishnu to come for marriage on an auspicious day.

Parvati on hearing that her father has arranged her marriage with Lord Vishnu is heart broken. She has all her life longed for Lord Shiva and performing penance for Lord Shiva. In that situation Goddess Parvati got ready for suicide rather than marry Lord Vishnu. One of the aides of Goddess Parvati, stopped her and assured Parvati that she would take Goddess Parvati to a  location in Himalayas where no one could find her and she could continue her Penance there. Goddess Parvati went with the aide to a secret cave and starts her penance for Lord Shiva. Here Daksha not finding his daughter sent his army in all directions in search of her.



On the day of Bhadrapada Shukla or Suddha Tadiya or Tritiya, Goddess Parvati prepared a Shiva Linga from the sand on ther river banks and worshipped it. She stayed awake the whole night singing and praising Lord shiva on Tritya. That day also had the Hasta Nakshatra or star. By this worship, the place on which Lord Shiva was sitting trembeled and Lord Shiva was forced to appear before Goddess Parvati and had to grant her a wish. Goddess Parvati, wished that Lord Shiva should accept her as his wife. Lord Shiva granted the wish and went to Kailash.

Goddess Parvati immediately cleaned the whole place and the Shiva Linga and threw all of material that was cleaned into the river. At the same time Daksha along with his relatives reached the place where Goddess Parvati was. Daksha asked Parvati the reason for leaving the house and was worried the way she was looking after the great Peanance she has been observing. Goddess Parvati replied that she has performed the Penance to please Lord Shiva and to obtain him as a husband. She also told that Lord Shiva has agreed to take her as his wife. She also told Daksh that she would return home only on the condition that Daksh should agree for her marriage with Lord Shiva. Daksha had no other and agreed for the same. After some time Daksha married his daughter Goddess Parvati to Lord Shiva with all the rituals.


Lord Shiva told Goddess Parvati that ”Whoever would observe the Hartalika Teej Vrat and would worship me with full devotion on Bhadrapada sudha Tadiya or tritiya would have my blessings and I would full fill all their wishes.” 



Lord Shiva also expalined why it is called as Hartalika. 

'Har'comes from Haran which means escaping or taking away without others notice and 'Talika' means aide. 

As the aide had taken Goddess Parvati without the knowledge of her father to worship Lord Shiva this day is known as Hartalika

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*

हरतालिका तीज व्रत कथा – 

कहते हैं कि इस व्रत के माहात्म्य की कथा भगवान् शिव ने पार्वती जी को उनके पूर्व जन्म का स्मरण करवाने के उद्देश्य से इस प्रकार से कही थी-

हे गौरी! पर्वतराज हिमालय पर गंगा के तट पर तुमने अपनी बाल्यावस्था में अधोमुखी होकर घोर तप किया था। इस अवधि में तुमने अन्न ना खाकर केवल हवा का ही सेवन के साथ तुमने सूखे पत्ते चबाकर काटी थी। माघ की शीतलता में तुमने निरंतर जल में प्रवेश कर तप किया था। वैशाख की जला देने वाली गर्मी में पंचाग्नी से शरीर को तपाया। श्रावण की मुसलाधार वर्षा में खुले आसमान के नीचे बिना अन्न जल ग्रहन किये व्यतीत किया। तुम्हारी इस कष्टदायक तपस्या को देखकर तुम्हारे पिता बहुत दुःखी और नाराज़ होते थे। तब एक दिन तुम्हारी तपस्या और पिता की नाराज़गी को देखकर नारदजी तुम्हारे घर पधारे।


तुम्हारे पिता द्वारा आने का कारण पूछने पर नारदजी बोले – ‘हे गिरिराज! मैं भगवान् विष्णु के भेजने पर यहाँ आया हूँ। आपकी कन्या की घोर तपस्या से प्रसन्न होकर वह उससे विवाह करना चाहते हैं। इस बारे में मैं आपकी राय जानना चाहता हूँ।नारदजी की बात सुनकर पर्वतराज अति प्रसन्नता के साथ बोले- श्रीमान! यदि स्वंय विष्णुजी मेरी कन्या का वरण करना चाहते हैं तो मुझे क्या आपत्ति हो सकती है। वे तो साक्षात ब्रह्म हैं। यह तो हर पिता की इच्छा होती है कि उसकी पुत्री सुख-सम्पदा से युक्त पति के घर कि लक्ष्मी बने।


नारदजी तुम्हारे पिता की स्वीकृति पाकर विष्णुजी के पास गए और उन्हें विवाह तय होने का समाचार सुनाया। परंतु जब तुम्हे इस विवाह के बारे में पता चला तो तुम्हारे दुःख का ठिकाना ना रहा। तुम्हे इस प्रकार से दुःखी देखकर, तुम्हारी एक सहेली ने तुम्हारे दुःख का कारण पूछने पर तुमने बताया कि – ‘मैंने सच्चे मन से भगवान् शिव का वरण किया है, किन्तु मेरे पिता ने मेरा विवाह विष्णुजी के साथ तय कर दिया है। मैं विचित्र धर्मसंकट में हूँ। अब मेरे पास प्राण त्याग देने के अलावा कोई और उपाय नहीं बचा।तुम्हारी सखी बहुत ही समझदार थी। उसने कहा – ‘प्राण छोड़ने का यहाँ कारण ही क्या है? संकट के समय धैर्य से काम लेना चाहिये। भारतीय नारी के जीवन की सार्थकता इसी में है कि जिसे मन से पति रूप में एक बार वरण कर लिया, जीवनपर्यन्त उसी से निर्वाह करे। सच्ची आस्था और एकनिष्ठा के समक्ष तो भगवान् भी असहाय हैं। मैं तुम्हे घनघोर वन में ले चलती हूँ जो साधना थल भी है और जहाँ तुम्हारे पिता तुम्हे खोज भी नहीं पायेंगे। मुझे पूर्ण विश्वास है कि ईश्वर अवश्य ही तुम्हारी सहायता करेंगे।


तुमने ऐसा ही किया। तुम्हारे पिता तुम्हे घर में न पाकर बड़े चिंतित और दुःखी हुए। वह सोचने लगे कि मैंने तो विष्णुजी से अपनी पुत्री का विवाह तय कर दिया है। यदि 
भगवान् विष्णु बारात लेकर आ गये और कन्या घर पर नहीं मिली तो बहुत अपमान होगा, ऐसा विचार कर पर्वतराज ने चारों ओर तुम्हारी खोज शुरू करवा दी। इधर तुम्हारी खोज होती रही उधर तुम अपनी सहेली के साथ नदी के तट पर एक गुफा में मेरी आराधना में लीन रहने लगीं। भाद्रपद तृतीय शुक्ल को हस्त नक्षत्र था। उस दिन तुमने रेत के शिवलिंग का निर्माण किया। रात भर मेरी स्तुति में गीत गाकर जागरण किया। तुम्हारी इस कठोर तपस्या के प्रभाव से मेरा आसन हिल उठा और मैं शीघ्र ही तुम्हारे पास पहुँचा और तुमसे वर मांगने को कहा तब अपनी तपस्या के फलीभूत मुझे अपने समक्ष पाकर तुमने कहा – ‘मैं आपको सच्चे मन से पति के रूप में वरण कर चुकी हूँ। यदि आप सचमुच मेरी तपस्या से प्रसन्न होकर यहाँ पधारे हैं तो मुझे अपनी अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार कर लीजिये। तब तथास्तुकहकर मैं कैलाश पर्वत पर लौट गया।


प्रातः होते ही तुमने पूजा की समस्त सामग्री नदी में प्रवाहित करके अपनी सखी सहित व्रत का वरण किया। उसी समय गिरिराज अपने बंधु बांधवों के साथ तुम्हे खोजते हुए वहाँ पहुंचे। तुम्हारी दशा देखकर अत्यंत दुःखी हुए और तुम्हारी इस कठोर तपस्या का कारण पुछा। तब तुमने कहा – ‘पिताजी, मैंने अपने जीवन का अधिकांश वक़्त कठोर तपस्या में बिताया है। मेरी इस तपस्या के केवल उद्देश्य महादेवजी को पति के रूप में प्राप्त करना था। आज मैं अपनी तपस्या की कसौटी पर खरी उतर चुकी हूँ। चुंकि आप मेरा विवाह विष्णुजी से करने का निश्चय कर चुके थे, इसलिये मैं अपने आराध्य की तलाश में घर से चली गयी। अब मैं आपके साथ घर इसी शर्त पर चलूंगी कि आप मेरा विवाह महादेवजी के साथ ही करेंगे। पर्वतराज ने तुम्हारी इच्छा स्वीकार करली और तुम्हे घर वापस ले गये। कुछ समय बाद उन्होने पूरे विधि विधान के साथ हमारा विवाह किया।



भगवान् शिव ने आगे कहा – “हे पार्वती! भाद्र पद कि शुक्ल तृतीया को तुमने मेरी आराधना करके जो व्रत किया था, उसी के परिणाम स्वरूप हम दोनों का विवाह संभव हो सका। इस व्रत का महत्त्व यह है कि मैं इस व्रत को पूर्ण निष्ठा से करने वाली प्रत्येक स्त्री को मन वांछित फल देता हूँ।भगवान् शिव ने पार्वतीजी से कहा कि इस व्रत को जो भी स्त्री पूर्ण श्रद्धा से करेगी उसे तुम्हारी तरह अचल सुहाग प्राप्त होगा।


इस व्रत को हरतालिकाइसलिये कहा जाता है क्योंकि पार्वती की सखी उन्हें पिता और प्रदेश से हर कर जंगल में ले गयी थी।
हरतअर्थात हरण करना और तालिकाअर्थात सखी।


~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*



1 comment:

  1. It was really good to know this....Thanks

    ReplyDelete