कमला/पद्मिनी एकादशी व्रत कथा




25. कमला/पद्मिनी एकादशी व्रत कथा

(अधिक मास/मलमास/ पुरुषोत्तमी शुक्ल एकादशी)
 
धर्मराज युधिष्ठिर बोले- हे जनार्दन! अधिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी का क्या नाम है तथा उसकी विधि क्या है? कृपा करके आप मुझे बताइए।






श्री भगवान बोले हे राजन्- अधिक मास में शुक्ल पक्ष में जो एकादशी आती है वह पद्मिनी (कमला) एकादशी कहलाती है। वैसे तो प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिक मास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है।

अधिक मास या मलमास को जोड़कर वर्ष में 26 एकादशी होती है। अधिक मास में दो एकादशी होती है जो पद्मिनी एकादशी (शुक्ल पक्ष) और परमा एकादशी (कृष्ण पक्ष) के नाम से जानी जाती है। ऐसा श्रीकृष्ण ने अर्जुन से कहा है। भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को इस व्रत की कथा बताई थी।

भगवान कृष् बोले- मलमास में अनेक पुण्यों को देने वाली एकादशी का नाम पद्मिनी है। इसका व्रत करने पर मनुष्य कीर्ति प्राप्त करके बैकुंठ को जाता है। जो मनुष्यों के लिए भी दुर्लभ है।

यह एकादशी करने के लिए दशमी के दिन व्रत का आरंभ करके काँसी के पात्र में जौं-चावल आदि का भोजन करें तथा नमक खावें। भूमि पर सोए और ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करें। एकादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में शौच आदि से निवृत्त होकर दन्तधावन करें और जल के बारह कुल्ले करके शुद्ध हो जाए।

सूर्य उदय होने के पूर्व उत्तम तीर्थ में स्नान करने जाए। इसमें गोबर, मिट्टी, तिल तथा कुशा आँवले के चूर्ण से विधिपूर्वक स्नान करें। श्वेत वस्त्र धारण करके भगवान विष्णु के मंदिर जाकर पूजा-अर्चना करें।

                             पद्मिनी एकादशी व्रत की कथा:

 

हे ुनिवर! पूर्वकाल में त्रेया युग में हैहय नामक राजा के वंश में कृतवीर्य नाम का राजा महिष्मती पुरी में राज्य करता था। उस राजा की एक हजार परम प्रिय स्त्रियाँ थीं, परंतु उनमें से किसी को भी पुत्र नहीं था, जो उनके राज्य भार को संभाल सकें। देवता, पितृ, सिद्ध तथा अनेक चिकित्सकों आदि से राजा ने पुत्र प्राप्ति के लिए काफी प्रयत्न किए लेकिन सब असफल रहे। एक दिन राजा को वन में तपस्या के लिए जाते थे उनकी परम प्रिय रानी इक्ष्वाकु वंश में उत्पन्न हुए राजा हरिश्चंद्र की पद्मिनी नाम वाली कन्या राजा के साथ वन जाने को तैयार हो गई। दोनों ने अपने अंग के सब सुंदर वस्त्र और आभूषणों का त्याग कर वल्कल वस्त्र धारण कर गन्धमादन पर्वत पर गए।

राजा ने उस पर्वत पर दस हजार वर्ष तक तप किया परंतु फिर भी पुत्र प्राप्ति नहीं हुई। तब पतिव्रता रानी कमलनयनी पद्मिनी से अनुसूया ने कहा- बारह मास से अधिक महत्वपूर्ण मलमास होता है जो बत्तीस मास पश्चात आता है। उसमें द्वादशीयुक्त पद्मिनी शुक्ल पक्ष की एकादशी का जागरण समेत व्रत करने से तुम्हारी सारी मनोकामना पूर्ण होगी। इस व्रत करने से पुत्र देने वाले भगवान तुम पर प्रसन्न होकर तुम्हें शीघ्र ही पुत्र देंगे।

रानी पद्मिनी ने पुत्र प्राप्ति की इच्छा से एकादशी का व्रत किया। वह एकादशी को निराहार रहकर रात्रि जागरण करती। इस व्रत से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु ने उन्हें पुत्र प्राप्ति का वरदान दिया। इसी के प्रभाव से पद्मिनी के घर कार्तिवीर्य उत्पन्न हुए। जो बलवान थे और उनके समान तीनों लोकों में कोई बलवान नहीं था। तीनों लोकों में भगवान के सिवा उनको जीतने का सामर्थ्य किसी में नहीं था।

सो हे नारद ! जिन मनुष्यों ने मलमास शुक्ल पक्ष एकादशी का व्रत किया है, जो संपूर्ण कथा को पढ़ते या सुनते हैं, वे भी यश के भागी होकर विष्णु लोक को प्राप्त होते है।

                                       

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*


एकादशी की पावन आरती

ऊँ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता



विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता ।। ऊँ।।



तेरे नाम गिनाऊँ देवी, भक्ति प्रदान करनी



गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी ।।ऊँ।।



मार्गशीर्ष के कृ्ष्णपक्ष की "उत्पन्ना" विश्वतारनी का जन्म हुआ।



शुक्ल पक्ष में हुई "मोक्षदा", मुक्तिदाता बन आई।। ऊँ।।



पौष के कृ्ष्णपक्ष की, "सफला" नामक है।



शुक्लपक्ष में होय "पुत्रदा", आनन्द अधिक रहै ।। ऊँ।।



नाम "षटतिला" माघ मास में, कृष्णपक्ष आवै।



शुक्लपक्ष में "जया" कहावै, विजय सदा पावै ।। ऊँ।।



"विजया" फागुन कृ्ष्णपक्ष में शुक्ला "आमलकी"



"पापमोचनी" कृ्ष्ण पक्ष में, चैत्र महाबलि की ।। ऊँ।।



चैत्र शुक्ल में नाम "कामदा" धन देने वाली



नाम "बरुथिनी" कृ्ष्णपक्ष में, वैसाख माह वाली ।। ऊँ।।



शुक्ल पक्ष में होये"मोहिनी", "अपरा" ज्येष्ठ कृ्ष्णपक्षी



नाम"निर्जला" सब सुख करनी, शुक्लपक्ष रखी ।। ऊँ।।



"योगिनी" नाम आषाढ में जानों, कृ्ष्णपक्ष करनी



"देवशयनी" नाम कहायो, शुक्लपक्ष धरी ।। ऊँ।।



"कामिका" श्रावण मास में आवै, कृष्णपक्ष कहिए।



श्रावण शुक्ला होय "पवित्रा", आनन्द से रहिए।। ऊँ।।



"अजा" भाद्रपद कृ्ष्णपक्ष की, "परिवर्तिनी" शुक्ला।



"इन्द्रा" आश्चिन कृ्ष्णपक्ष में, व्रत से भवसागर निकला।। ऊँ।।



"पापांकुशा" है शुक्ल पक्ष में, आप हरनहारी



"रमा" मास कार्तिक में आवै, सुखदायक भारी ।।ऊँ।।



"देवोत्थानी" शुक्लपक्ष की, दु:खनाशक मैया।



लौंद मास में करूँ विनती पार करो नैया ।। ऊँ।।



"परमा" कृ्ष्णपक्ष में होती, जन मंगल करनी।।



शुक्ल लौंद में होय "पद्मिनी", दु: दारिद्र हरनी ।। ऊँ।।



जो कोई आरती एकाद्शी की, भक्ति सहित गावै



जन "गुरदिता" स्वर्ग का वासा, निश्चय वह पावै।।ऊँ।।


~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

 

No comments:

Post a Comment